in ,

2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीत को याद कर बोली अश्विनी पोनप्पा- ‘मैं फिर से उस पल को जीना चाहूंगी’

बर्मिंघम में कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 की शुरुआत 28 जुलाई से होने वाली है।

भारत की सीनियर शटलर अश्विनी पोनप्पा ने कॉमनवेल्थ गेम्स में इस बार फिर जगह बनाई है। वह बर्मिंघम में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारतीय बैडमिंटन टीम का हिस्सा हैं। फिलहाल वह मल्टी स्पोर्ट्स टूर्नामेंट से पहले ट्रेनिंग सेशन में अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश कर रही हैं।

बता दें कि अश्विनी पोनप्पा इस समय भारतीय बैडमिंटन का मुख्य हिस्सा हैं। हालांकि, पिछले कुछ सालों में चीजें पूरी तरह से बदल गई हैं। 32 वर्षीय बैंगलोर में जन्मी शटलर अभी ठीक वैसे फॉर्म में नहीं है, जैसा उन्होंने 2006 में डेब्यू के दौरान दिखाया था और 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीता था। इसलिए बैडमिंटन के बारे में कहा जा रहा है कि पिछले कुछ सालों में लगभग सबकुछ बदल गया है।

2010 में दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स में पोनप्पा ने ऐतिहासिक और यादगार जीत के साथ स्वर्ण पदक जीतने के साथ सुर्खियां बटोरीं। उन्होंने 2006 के एशियन गेम्स में भी स्वर्ण पदक जीता था। पोनप्पा ने हाल ही में बर्मिंघम में 22वें कॉमनवेल्थ गेम्स के शुरू होने से पहले अपनी तैयारियों और मानसिकता के बारे में बात की है।

अश्विनी पोनप्पा ने याद किए 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स के पल

उन्होंने कहा कि, ‘इन सालों में बहुत सारे उतार-चढ़ाव आए हैं। मैंने 10 सालों में बहुत कुछ बदल दिया है, छलांग और सीमा में सुधार हुआ है, अब मेरे पास काफी अनुभव है और कॉमनवेल्थ गेम्स की टीम में फिर से जगह बनाना बहुत अच्छा लगता है। मेरा मतलब है, 2010 में पीछे मुड़कर देखें, तो यह सब वहीं शुरू हुआ और यह मेरे लिए बहुत नया था। गोल्ड जीतना एक शानदार क्षण था। मैं वास्तव में उस पल को फिर से जीना चाहूंगी।’

अश्विनी पोनप्पा बाद में गोल्ड कोस्ट पर कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में कांस्य पदक के बारे में भी बात की और उस समय की परिस्थितियों की तुलना वर्तमान परिस्थितियों से की।

उन्होंने कहा कि, ‘2018 में मैंने और सिक्की ने कांस्य जीता, लेकिन यह पहली बार था जब हमने टीम को स्वर्ण पदक दिलाया जो एक शानदार एहसास था। इस बार चुनौती अलग है। मैं मिक्स्ड डबल्स खेल रही हूं, वुमेन्स डबल्स नहीं, लेकिन मैं इसके लिए तैयार हूं। मिला-जुला अहसास था, यह हमारा 16वां मैच था और यह दिमाग और शरीर पर असर डालता है। फाइनल से पहले सिक्की के पेट में कुछ परेशानी हुई और ऐसे में कई कारण थे कि हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सके। इसलिए हां, यह निराशाजनक था।’

India vs West Indies. (Photo Source: Twitter)

भारत ने पाकिस्तान को छोड़ा पीछे, अपने नाम दर्ज किया यह वर्ल्ड रिकार्ड

Rahul Dravid ( Image Credit: Twitter)

“राहुल द्रविड़ काफी परेशान हो गए थे” श्रेयस अय्यर ने बताई ड्रेसिंग रूम के अंदर की बात