in

भारत ने 61 मेडल के साथ किया अपने अभियान का समापन, कुश्ती, बैडमिंटन, एथलेटिक्स और मुक्केबाजी में दिखाया जलवा

लॉन बॉउल्स में भारत ने रचा इतिहास, तो बैडमिंटन में लगाई गोल्ड की हैट्रिक

PV SINDHU & MANPRIT SINGH (image source: twitter)

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारत का अभियान समाप्त हो गया खेलों में भारत का प्रदर्शन बेहतरीन रहा। भारत ने कुल 61 पदकों के साथ अपने अभियान का समापन किया। भारत के लिए इस बार कुश्ती में सर्वाधिक पदक आए। खास बात यह है कि इन खेलों में हिस्सा ले रहे सभी भारतीय पहलवानों ने भारत के लिए पदक जीते। इसके भारत ने भारोत्तोलन में 10 पदक, एथलेटिक्स में 8 पदक, मुक्केबाजी में 7 और बैडमिंटन में 6 पदक जीते।

लॉन बॉल्स में भारत ने रचा इतिहास

भारत के नजरिए से इन खेलों में खास बात लॉन बॉल में भारतीय टीम का प्रदर्शन रहा। भारत ने इतिहास रचते हुए महिला वर्ग में स्वर्ण तो पुरूष वर्ग में रजत पदक जीता।

कुश्ती में विनेश फोगाट ने रचा इतिहास

विनेश फोगाट में साल 2014, 2018 और 2022 के कॉमनवेल्थ गेम्स में भी स्वर्ण जीता था। वह लगातार तीन स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला भी बन गई हैं।

मीराबाई ने पहला स्वर्ण तो संकेत ने पहला रजत दिलाया

इसके अलावा हॉकी में रजत पदक के साथ भारत का सफर खत्म हुआ। भारोत्तोलन में संकेत सरगर ने पहला पदक दिलाया था तो वहीं, मीराबाई चानू ने पहला स्वर्ण पदक दिलाया। इसके बाद सभी पहलवानों ने पदक जीतकर इतिहास दोहराया। बॉक्सिंग और बैडमिंटन में भी भारतीय खिलाड़ियों ने कमाल किया। एथलेटिक्स और लॉन बॉल में भी भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छा खेल दिखाया। इसके अलावा पैरा एथलीटों ने भी कई पदक दिलाए। इसी वजह से शूटिंग के न होने के बावजूद भारत इस बार 61 पदक ला पाया।

कुश्ती में भारत को सर्वाधिक 12 पदक मिले, सभी भारतीय पहलवानों ने जीते 12 पदक

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में शानदार प्रदर्शन करते हुए भारतीय पहलवानों ने 12 पदक जीते। जिनमें 6 स्वर्ण, 1 रजत और पांच कांस्य पदक शामिल है।

  • स्वर्ण-रवि दहिया, विनेश फोगाट,नवीन, बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक, दीपक पूनिया
  • रजत-अंशु मलिक
  • कांस्य-पूजा गहलोत, पूजा सिहाग, दीपक नेहरा, मोहित ग्रेवाल,दिव्या काकरान

भारोत्तोलन में भारत को मिले 11 पदक मिले (एक पैरा भारोत्तोलन)

भारोत्तोलन में भारत को 11 पदक मिले, जिसमें 4 स्वर्ण, 3 रजत और 4 कांस्य पदक शामिल हैं।

  • स्वर्ण पदक-मीराबाई चानू, जेरेमी लालरिनुंगा, अचिंता शेउली, सुधीर (पैरा भारोत्तोलन)
  • रजत -बिंदियारानी देवी, संकेत सरगर, विकास ठाकुर
  • कांस्य पदक-गुरूराज पुजारी, हरजिंदर कौर, लवप्रीत सिंह, गुरदीप सिंह।

एथलेटिक्स में भारत को मिले 8 पदक

इस बार इन खेलों में भारत के लिए एथलेटिक्स में उम्मीद से ज्यादा बेहतर परिणाम निकले। भारत ने एथलेटिक्स में 8 पदक जीते, जिसमें 1 स्वर्ण, चार रजत और 3 कांस्य पदक शामिल हैं।

  • स्वर्ण-एल्धोस पॉल (ट्रिपल जंप)
  • रजत-मुरली श्रीशंकर (लांग जंप), प्रियंका गोस्वामी (10 हजार मीटर रेस वॉक), अविनाश साबले ( तीन हजार मीटर स्टीपलचेज), अबदुल्ला अबूबकर (ट्रिपल जंप)
  • कांस्य-तेजस्विन शंकर (हाई जंप), संदीप कुमार (1 हजार मीटर रेस वॉक), अन्नू रानी (जैवलिन थ्रो) ।

मुक्केबाजी में भारत को 7 पदक मिले

मुक्केबाजी में भारतीय दल को सात पदक मिले , जिसमें 3 स्वर्ण, 1 रजत और तीन कांस्य पदक हैं।

  • स्वर्ण-नीतू घंघास, अमित पंघल, निकहत जरीन।
  • रजत-सागर अहलावत।
  • कांस्य-जैस्मिन लम्बोरिया, मोहम्मद हुसामुद्दीन, रोहित टोकस।

बैडमिंटन में भारतीय शटलरों ने जीते 6 पदक

बैडमिंटन में इस बार भारतीय शटलरों मे कमाल कर दिया। भारतीय शटलरों ने 3 स्वर्ण 1 रजत और 2 कांस्य पदक जीते।

  • स्वर्ण- पीवी सिंधु, लक्ष्य सेन, सात्विक-चिराग।
  • रजत-भारतीय बैडमिंटन टीम।
  • कांस्य-किदांबी श्रीकांत, त्रिषा-गायत्री।

टेबल टेनिस में भारत ने जीते 5 पदक

टेबल टेनिस ने भी भारतीय खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन रहा। भारत ने इस स्पर्धा में 3 स्वर्ण सहित 5 पदक जीते।

  • स्वर्ण-अचंता शरथ कमल, टीटी पुरुष टीम, शरथ-श्रीजा की मिश्रित युगल जोड़ी।
  • रजत-शरथ की साथियान पुरूष युगल जोड़ी
  • कांस्य-जी साथियान।

 

जूडो में भारत ने दो रजत और 1 कांस्य सहित तीन पदक जीते

  • रजत-सुशीला देवी, तूलिका मान
  • कांस्य-विजय कुमार यादव

लॉन बॉल्स में भारत ने 1 स्वर्ण सहित जीते कुल दो पदक

  • स्वर्ण-महिला लॉन बॉल टीम
  • रजत-पुरूष लॉन बॉल टीम

इसके अलावा भारत ने स्क्वैश में दो कांस्य (सौरव घोषाल-, दीपिका पल्लीकल / सौरव घोषाल ) पदक जीता। वहीं भारत ने पैरा टेबल टेनिस में 1 स्वर्ण (भाविना पटेल) और एक कांस्य (सोनलबेन पटेल) जीता। भारत की महिला हॉकी टीम ने कांस्य और पुरूष हॉकी टीम ने रजत पदक जीता, जबकि भारतीय क्रिकेट टीम ने रजत पदक पर कब्जा किया।

भारत ने कुल 61 पदकों (22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक) के साथ पदक तालिका में चौथे स्थान पर रहा।

ऑस्ट्रेलिया 142 पदकों (52 स्वर्ण, 44 रजत और 46 कांस्य) के साथ पहले नंबर पर रहा। दूसरे नंबर पर इंग्लैंड 132 पदकों (स्वर्ण-47, रजत-47, कांस्य-38) के साथ रहा। वहीं कनाडा 70 पदकों (19 स्वर्ण, 25 रजत और 26 कांस्य) के साथ तीसरे नंबर पर रहा।

बता दें कि गोल्ड कोस्ट 2018 में पिछले संस्करण में, भारतीय एथलीटों ने कुल 66 पदक जीते थे। जिसमें 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य पदक शामिल हैं। इस तरह भारत मेजबान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बाद तीसरे स्थान पर रहा था।

India vs West Indies. (Photo Source: Twitter/BCCI)

एशिया कप 2022 के लिए इन 3 खिलाड़ियों को भारतीय टीम में करना चाहिए शामिल

India vs West Indies. (Photo Source: Twitter)

एशिया कप 2022 के लिए भारतीय टीम का हुआ ऐलान, विराट कोहली के साथ इस स्टार क्रिकेटर की हुई वापसी