Advertisment

ODI WORLD CUP 2023: वर्ल्ड कप 2023 में टीमें लक्ष्य का पीछा करने के बजाय पहले बल्लेबाजी करना कर रही हैं पसंद? जानते हैं इसके पीछे की बड़ी वजह!

author-image
Joseph T J
New Update
Ravindra Jadeja

भारत की मेजबानी में खेले जा रहे वनडे वर्ल्ड कप 2023 कई मुकाबलों में आपने देखा होगा कि जहां टीमें पीछा करने के बजाय पहले बल्लेबाजी करने का विकल्प चुनती हैं। और जीत हासिल करने में कामयाब रही है। खैर, काफी समय हो गया है जब से यह 50 ओवर के क्रिकेट में एक पैटर्न बन गया है जहां टीमें पहले बल्लेबाजी करने के बाद बोर्ड पर बड़ा स्कोर दर्ज करके जीत का दावा करने की कोशिश करती हैं। इसके पीछे क्या रणनीति है? क्या टीमें दूसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने से करने में नाकाम रहती हैं। आईए इस आर्टिकल में आपको इसका वास्तविक कारण बताते हैं। 

Advertisment

इस वजह से टीमें वर्ल्ड कप में पहले बल्लेबाजी करना चुन रही है

विपक्षी गेंदबाजों के खिलाफ ओस के प्रभाव को छोड़कर, 275 से अधिक के लक्ष्य का पीछा करना उपमहाद्वीप की परिस्थितियों में एकदिवसीय प्रारूप में एक चुनौती है। टीमें आम तौर पर वनडे मैच में गर्म परिस्थितियों में बल्लेबाजी करना पसंद करती हैं। जैसा कि आपने इंडियन प्रीमियर लीग देखा होगा। वनडे मैच में हर बार मैच को गहराई तक ले जाना आसान नहीं है। यदि खिलाड़ी आक्रामक रूप धारण करते हैं, तो टीम के कम स्कोर पर आउट होने की संभावना अधिक होती है।

यहां एकदिवसीय मैचों में दूसरे नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए हारने वाली टीमों के हालिया रूझानों पर एक नजर है

इस संबंध में टीम के आधार पर विश्लेषण करने पर, भारत सबसे मजबूत टीम नजर आती है। जिसने वनडे में लक्ष्य का पीछा करते हुए अधिक सफलता हासिल की है। उनकी पिछली 20 में से केवल छह हार 40 रन से अधिक की अंतर से हुई हैं। वर्ल्ड कप के शुरुआती पांच मैचों में भारत ने दूसरी बार बल्लेबाजी करते हुए जीत हासिल की है। 

Advertisment

दक्षिण अफ्रीका की बात करें तो लक्ष्य का पीछा करते हुए अपनी पिछली सभी 14 वनडे हार 10 रनों से अधिक के अंतर से मिलीं। इनमें से केवल दो हार आखिरी ओवर में हुई जब लक्ष्य का पीछा करना उतना मुश्किल नहीं था। न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की बात करें तो उनकी पिछली 12 हार में से 16 हार 50 से अधिक रनों के अंतर से हुई हैं। इन 24 मैचों में से केवल छह मैच आखिरी ओवर तक गए।

ऑस्ट्रेलिया की पिछली पांच वनडे हार लक्ष्य का पीछा करते हुए 99 या उससे अधिक रनों से हुई हैं। विशेष रूप से, पिछले छह वर्षों में, पांच बार के विश्व चैंपियन ने 50-70 रनों के बीच केवल एक गेम हारा है। इस बीच, पाकिस्तान की पिछली सात में से छह हार और अफगानिस्तान की पिछली आठ में से सात हार 40 से अधिक रनों के अंतर से हुई।

India