in

रॉस टेलर ने फिर खड़ा किया बवाल, कहा- “राजस्थान रॉयल्स के मालिक ने मारा था मुझे थप्पड़”

रॉस टेलर अपनी ऑटोबायोग्राफी से एक के बाद एक करके क्रिकेट जगत में अपने जिंदगी का खुलासा कर रहे हैं।

Ross Taylor
Ross Taylor (Image Credit Twitter)

न्यूजीलैंड के पूर्व बल्लेबाज रॉस टेलर अपनी आत्मकथा में एक के बाद एक करके चौंकाने वाले खुलासे कर रहे हैं। उन्होंने अपनी किताब “ब्लैक एंड व्हाइट” में कई चीजें बताई है। टेलर ने बताया कि इंडियन टी-20 लीग में राजस्थान रॉयल्स के मालिकों में से एक ने उन्हें थप्पड़ मारा था, जब वह पंजाब किंग्स के खिलाफ जीरो पर आउट हो गए थे।

पंजाब किंग्स को अब किंग्स इलेवन पंजाब के नाम से जाना जाता है। उन्होंने यह भी लिखा था कि थप्पड़ इतनी जोर से नहीं मारा गया था, लेकिन उन्हें यकीन नहीं था कि ऐसा भी हो सकता है।

इस मैच में घटी थी यह घटना

टेलर ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में बताया कि, “जब हमारी राजस्थान टीम मोहाली में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ खेल 195 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी थी तब मैं जीरो पर आउट हो गया था और हमारी टीम लक्ष्य तक पहुँच भी नहीं पाई थी।”

उन्होंने आगे कहा कि मैच के बाद टीम, सहयोगी स्टाफ और टीम प्रबंधन होटल की सबसे ऊपरी मंजिल पर मौजूद बार में थे। लिज हर्ले भी वॉर्न के साथ वहां मौजूद थीं। उसके बाद राजस्थान रॉयल्स के मालिकों में से एक ने उनके पास आकर कहा कि हम तुम्हें जीरो पर आउट होने के लिए पैसे नहीं देते।

हम तुम्हें जीरो पर आउट होने के लिए पैसे नहीं देते

उन्होंने लिखा कि, “मैच के बाद सभी टीम के खिलाड़ी, सहयोगी स्टाफ और टीम प्रबंधन होटल की सबसे ऊपरी मंजिल पर बार में मौजूद थे। वहाँ पर लिज हर्ले भी वॉर्न के साथ थीं। फिर राजस्थान रॉयल्स के मालिकों में से एक उनके पास आकर बोलते हैं कि रॉस हम तुम्हें मिलियन डॉलर रुपये जीरो पर आउट होने के लिए नहीं देते और मुझे चेहरे पर 3-4 बार थप्पड़ भी मारा।”

टेलर ने लिखा कि, “वह यह बोलते हुए हंस रहे थे और उनके थप्पड़ इतने जोर से नहीं लगे, लेकिन मुझे यकीन नहीं था कि ऐसा होग। मैं वहाँ पर इसे कॉई बड़ा मुद्दा नहीं बनाना चाहता था, लेकिन मैं सोच भी नहीं सकता ऐसी चीजें एक पेशेवर खेल में हो रहे हैं।”

टेलर साल 2008 से 2010 तक रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेले थे और फिर साल 2011 में राजस्थान रॉयल्स की टीम के साथ थे।

VVS Laxman ( Image Credit: Twitter)

जिम्बाब्वे दौरे के लिए कोच बने वीवीएस लक्ष्मण, राहुल द्रविड़ को मिला आराम

Sachin Tendulkar

32 बरस पहले….आज ही के दिन 17 साल के सचिन ने रचा था इतिहास, इंग्लैंड के खिलाफ लगाई थी पहली टेस्ट सेंचुरी