Advertisment

साइबर फ्रॉड के शिकार हुए विनोद कांबली, ठगों ने खाते से उड़ाए 1.14 लाख

पूर्व भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली साइबर फ्रॉड के शिकार हो गये हैं। साइबर ठगों ने उनके खाते से 1.14 लाख रुपये उड़ा दिये।

author-image
Justin Joseph
New Update
Vinod Kambli. (Photo Source: Twitter)

Vinod Kambli. (Photo Source: Twitter)

पूर्व भारतीय क्रिकेटर विनोद कांबली साइबर ठगी के शिकार हो गये हैं। साइबर ठगों ने एक निजी बैंक कर्मचारी के रूप में उन्हें फोन किया और केवाईसी दस्तावेजों को अपडेट कराने की बात कही, जिसके बाद विनोद कांबली के बैंक अकाउंट से 1.14 लाख रुपये गायब हो गये। इसके बाद 3 दिसंबर को कांबली ने बांद्रा पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कराया।

Advertisment

कांबली ने की पुलिस से शिकायत

घटना के बारे में बात करते हुए विनोद कांबली ने कहा कि उन्हें एक निजी बैंक के एक कर्मचारी का फोन आया, जिसमें कहा गया कि उन्हें केवाईसी विवरण को अपडेट करने की जरूरत है। यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उनका कार्ड डिएक्टिवेट कर दिया जायेगा। इसी दौरान विनोद कांबली से एनीडेस्क एप्लीकेशन डाउनलोड करने के लिए कहा गया, जिसके जरिए साइबर ठगों ने घटना को अंजाम दिया। इसके बाद कांबली बांद्रा के पुलिस स्टेशन पहुंचे और घटना की शिकायत दर्ज करायी। थाने के साइबर यूनिट ने धोखाधड़ी को पकड़ लिया और उतनी ही राशि वापस खाते में क्रेडिट कराया।

बता दें कि इन दिनों साइबर ठगों द्वारा यूजर के बैंक खाते से राशि डेबिट करने के लिए कई ऐप का इस्तेमाल किया जा रहा है और एनीडेस्क उनमें से ही एक है। हालांकि कांबली के मामले में जब वह कॉल पर थे तो उनके खाते से कई लेन-देन हुए, जिससे उन्हें कुल 1.14 लाख का नुकसान हुआ।

Advertisment

जब कांबली को पता चला कि फोन करने वाला कोई प्रामाणिक नहीं है, तो उन्हें धोखाधड़ी का मामला समझ आया और तुरंत वह अपने सीए और बैंक अधिकारियों के पास पहुंचे। मामले में पुलिस से शिकायत के बाद साइबर यूनिट ने फ्रॉड अकाउंट को ट्रेस किया और बैंक से ट्रांजैक्शन रिवर्स करने को कहा।

मामले में कार्रवाई करने वाले पुलिस अधिकारी ने बताया कि कॉल रिकॉर्ड और उस बैंक खाते की डिटेल्स ली गई, जिससे ट्रांजैक्शन किया गया था, ताकि जालसाज को ट्रैक किया जा सके।

Cricket News General News India