in

“हम इसी आक्रामक अंदाज में ही बल्लेबाजी करना जारी रखेंगे” वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरा टी-20 हारने के बाद कप्तान रोहित शर्मा

भारत और वेस्टइंडीज के बीच 2 अगस्त को तीसरा टी-20 मुकाबला रात 9:30 बजे से खेला जाएगा।

Rohit Sharma. (Photo Source: Twitter)
Rohit Sharma. (Photo Source: Twitter)

वेस्टइंडीज की टीम ने निकोलस पूरन के नेतृत्व में भारत के खिलाफ 1 अगस्त को दूसरा टी-20 मैच जीतकर सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली है। भारत और वेस्टइंडीज के बीच 5 मैचों की टी-20 सीरीज खेली जा रही है जिसमें तीसरा टी-20 मैच लगातार अगले दिन यानि 2 अगस्त को खेला जाएगा।

पहली पारी में भारतीय टीम की खराब बल्लेबाजी ने फैंस के बीच काफी चिंता पैदा कर दी, लेकिन कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि वे और उनकी टीम बल्ले से अपने आक्रामक अंदाज को जारी रखेंगे।

वेस्टइंडीज ने टॉस जीतने के बाद भारत को बल्लेबाजी के लिए बुलाया। लेकिन पारी की पहली ही गेंद पर ओबेड मैकॉय ने भारतीय कप्तान को गोल्डन डक आउट किया। ओबेड ने पूरे भारतीय खेमे को अपनी शानदार गेंदबाजी से तबाह कर दिया। उन्होंने 4 ओवर में 17 रन देकर 6 विकेट लिए और वेस्टइंडीज को गेम में जबरजस्त वापसी करवाई। वेस्टइंडीज के गेंदबाजों द्वारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के बाद भारत सिर्फ 138 रन बनाकर सिमट गया।

वेस्टइंडीज के बेरहम और ताबड़तोड़ बल्लेबाजों के लिए यह लक्ष्य काफी आसान था और अपने पावर-हिटिंग बल्लेबाजी के दम पर उन्होंने मैच को जीत लिया। हालांकि मिडल और डेथ ओवरों में भारत ने अच्छी गेंदबाजी की और वेस्टइंडीज की टीम को आखरी ओवर में जाकर जीत मिली।

रोहित ने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ की 

कप्तान रोहित शर्मा ने इतने कम रन वाले मैच में अपने गेंदबाजों के प्रयास की प्रशंसा की और आगामी सीरीज और टी 20 वर्ल्ड कप के लिए टीम के अंदाज को लेकर काफी उत्साहित हैं।

रोहित ने मैच के बाद प्रेस से बात करते समय कहा कि, “वास्तव में, गेंदबाजों ने जिस तरह से गेंदबाजी की उससे मैं खुश हूं, लेकिन निश्चित रूप से, हमारी बल्लेबाजी में कुछ खामियाँ हैं जिन्हें हमें ठीक करने की जरूरत है। लेकिन मैं यह भी कहूंगा कि हम उसी तरह से बल्लेबाजी करना जारी रखेंगे। क्योंकि हम कुछ हासिल करना चाहते हैं। जब तक आप कोशिश नहीं करते तब तक आप कुछ हासिल नहीं करेंगे।”

इस तरह के आक्रामक रवैये को इंग्लैंड के पूर्व कप्तान इयोन मॉर्गन के अंदाज के नाम से जाना जाता है। कई टीम ने इस अंदाज को अपनाने की कोशिश भी की है। इसी आक्रामक अंदाज के कारण इंग्लैंड ने साल 2019 का वर्ल्ड कप जीता था।

 

सूर्यकुमार यादव से ओपनिंग कराने का कोई मतलब नहीं : आकाश चोपड़ा

The Hundred

द हंड्रेड मेन्स 2022: जानें मैच का शेड्यूल, कब और किन टीमों के बीच होगा मुकाबला